बोर्ड एग्जाम की तैयारी के लिए परीक्षा एवं स्वास्थ्य सम्बंधित महत्वपूर्ण टिप्स

१. सबसे जरूरी है आपको अपना पाठ्यक्रम मालूम होना चहिये क्यूंकि कोरोना महामारी के चलते बहुत सारे बोर्डों ने ३०% पाठ्यक्रम में कटौती की गयी है, ये जानकारी आपको सम्बंधित बोर्ड की वेबसाइट पर मिल जाएगी।
२. प्रश्नपत्र का प्रारूप जानना जरूरी है, क्यूंकि कई सारे बोर्डों ने निर्णय लिया है की ३०-५०% प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे ये जानकारी आपको सम्बंधित बोर्ड की वेबसाइट पर मिल जाएगी।
३. विषयों में से टॉपिक की वरीयता निर्धारित करके तैयारी शुरू करें। जिस टॉपिक पर अच्छी पकड़ हो उसके सबसे पहले खत्म कर लें।
४. किसी भी टॉपिक की तैयारी करते समय शार्ट नोट्स जरूर बनाएं क्यूंकि टॉपिक को दोहराते समय ये शार्ट नोट बहुत फायदेमंद होते हैं और समय भी बचता है।
५. मैथ्स और विज्ञान के जो फार्मूला होते हैं उनको एक चार्ट पेपर पर लिख कर स्टडी टेबल के सामने दीवाल पर लगा दें, जिससे आपकी आते जाते इस पर नजर पड़ती रहेगी और फॉर्मूले दिमाग में रीपीट होते रहेंगे।
६. ज्यादा अंकों वाले प्रश्न में हैडिंग दे कर उत्तर दें , हैंडिंग अच्छी तरह से लिखे जिससे ये पता चलता है की किसी टॉपिक पर आपकी कितनी पकड़ है , फिर भले हैडिंग के अंदर कम लिखे चलेगा। हैडिंग बोल्ड लिखना चाहिए।
7. विज्ञान से सम्बंधित प्रश्न में अगर चित्र बनाना संभव हो तो जरूर चित्र बनाये , उसके अनुसार एक्सप्लेन भी करें।
८. प्रश्नों का उत्तर लिखते समय अंकों का एवं शब्दों का ध्यान जरूर रखें, जितने अंकों का प्रश्न हो उसी के अनुसार उत्तर दें , जिससे आपका समय का मैनेजमेंट सही तरीके से होता है।
९. प्रश्नों का उत्तर एक सीक्वेंस में लिखना चाहिए और शब्दों के बीच में उचित जगह रखनी चाहिए।
१०. एक टाइम टेबल जरूर बनाना चाहिए जिसके अनुसार पढ़ाई जरूर करें, नियमित उसकी फॉलो भी करें।
११. कम से काम 5 पिछले प्रश्न पत्रों का अभ्यास जरूर करना चाहिए जिससे हम अपनी तैयारी की जाँच भी कर सकते हैं।
१२. सबसे जरूरी पढाई करते समय बीच -२ में (२ घन्टे के अंतर पर) ब्रेक भी लेते रहना चाहिए ये ५-१० मिनट का ले सकते हैं उसमे गाने सुने , चाय पिए , गार्डन में घूम लें जो अच्छा लगता है वो काम करें।
१३. एग्जाम नजदीक आने पर स्ट्रेस और टेंशन कई बच्चों में बढ़ जाता है, उसके लिए योग या प्राणायाम जरूर करें।

नोट ::- सुबह १५-२० मिनट खुले में घूमें , सूर्य नमस्कार कम से कम ५ बार करे।
सूर्य नमस्कारhttp://gauravyogic.blogspot.com/2018/01/blog-post_12.html
एक जगह बैठ जाएँ रीढ़ की हड्डी बिलकुल सीधी रहना चाहिए – ऑंखें बंद करके गहरी-२ सांसे कम से कम ४५-५०(३ बार में) बार लें, कुछ देर अनुलोम- विलोम का अभ्यास करें।
प्राणायाम क्या है http://gauravyogic.blogspot.com/2017/01/blog-post.html
प्राणायाम के प्रकारhttp://gauravyogic.blogspot.com/2018/10/blog-post.html

Write a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *